मेरी क़लम - Meri Qalam - میری قلم ...

Sunday, December 22, 2013

थू है मानवता पर ! ओर इस कलयुग पर !

पूरी मुंबई सिर्फ पोस्टर्स और होर्डिंग्स की नगरी नज़र आ रही है, ऐसा लग रहा है मानो मुंबई की खूबसूरती को किसी की नजर लग गई हो, साथ ही आज 7 लेयर सिक्यूरिटी, हजारों पुलिस वाले डंडा लिए तैनात है ! फास्टेस्ट मेट्रो कहलाने वाला शेहर छावनी का रूप ले चूका है !

कई "करोड़" रूपये, सिर्फ कुछ ही घंटो के लिए फूंके जा रहे हैं !
वहीँ दूसरी ओर मुज़फ्फर नगर दंगा पीड़ित सर्दी से कंपकपाते अपने तन को ढांपने के लिए कपड़ों को तरस रहे हैं !

थू है मानवता पर ! ओर इस कलयुग पर !

No comments:

Post a Comment