मेरी क़लम - Meri Qalam - میری قلم ...

Monday, October 18, 2010

सपने


सपने वो नहीं होते

जो आप नींद में देखा करते हैं,

सपने वो होते हैं

जिनके लिए आप नींद का बलिदान कर देते हैं

12 comments:

  1. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

    ReplyDelete
  2. अच्छा लगा . अल्लाह आपको बनाए लोगों के दुखों में काम आने वाला .

    ### 'मैंने इसीलिए जन्म लिया और इसीलिए संसार में आया हूं कि सत्य पर गवाही दूं।‘

    ReplyDelete
  3. kya bat hai. lekin nind ka balidan sapane pure karne ke liye kiya jata hai,.narayan narayan

    ReplyDelete
  4. Waah!
    V.V.Well Written.
    Congratulation.

    ReplyDelete
  5. इस सुंदर नए से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. इस सुंदर नए से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद दोस्तों !

    ReplyDelete